‘नाविका सागर परिक्रमा’

दिनांक: September 11, 2017

navika sagar parikrma Indian Nevy

माननीय रक्षा मंत्री श्रीमती निर्मला सीतारमण ने 10 सितम्‍बर को गोवा से भारतीय नौ सेना के पोत वाहक जहाज तरिणी (आईएनएसवी तरणी) को झंडी दिखाकर रवाना किया। गोवा के आईएनएस मंडोवी नौका पूल से रवाना किए गए इस पोत की विशेषता यह है कि इसमें सभी महिला क्रू शामिल है। पहली बार भारतीय नौसेना के पोत वाहक जहाज आईएनएसवी तरिणी पूरे संसार की जल यात्रा के लिए चालक दल की सभी महिला सदस्‍यों के नेतृत्‍व में निकला है। समुद्री यात्रा की समाप्‍ति पर इस जहाज के अप्रैल, 2018 में वापस गोवा लौटने की आशा है। यह अभियान पांच चरणों में पूरा होगा। यह आस्‍ट्रेलिया के फ्रीमेनटेली, न्‍यूजीलैंड लाइटलेटन, पोर्टसिडनी के फॉक्‍ लेंड्स और दक्षिण अफ्रीका के केपटाउन आदि चार बंदरगाहों पर रूकेगा।

इस अवसर पर गोवा के मुख्‍यमंत्री श्री मनोहर पर्रिकर नौ सेनाअध्‍यक्ष एडमिरल सुनील लांबा, फ्लैग ऑफिसर कमांडिंग-इन-चीफ वाइस एडमिरल ए.आर.करवे, दक्षिणी नौ सेना कमान के कमांडर-इन-चीफ वाइस एडमिरल आर.हरि कुमार और नौ सेना के सेवानिवृत्‍त एवं सेवारत अधिकारियों के साथ-साथ सिविलियन गणमान्‍य व्‍यक्‍तियों, क्रू चालक दल एवं सेलर्स के पारिवारिक सदस्‍य भी मौजूद थे।

x

इस अवसर पर आयोजित समारोह में माननीय रक्षा मंत्री ने कहा कि ‘यह दिन हमारे देश के इतिहास का ऐतिहासिक दिवस है। यह विश्‍व के नौपरिवहन इतिहास में दर्ज होगा आज विश्‍व के समक्ष हमारी महिलाएं उस कार्य का संचालन कर रही है जिसके बारे में विश्‍व की अधिकतर नौसेना सोच भी नहीं पाती है‘। श्री निर्मला सीतारमण ने आगे कहा कि ‘इस पहल के लिए मैं भारतीय नौ सेना की प्रशांसा करती हूं कि मैं उन अनुभवी परामर्शताओं और प्रेरकों की सराहना करती हूं जिन्‍होंने इन साहसी और निर्भीक महिलाओं को प्रेरणा दी और प्रशिक्षण दिया।’ उन्‍होंने कहा कि इस ऐतिहासिक महत्‍वपूर्ण अवसर पर मौजूद होना मेरे लिए गर्व की बात है। मैं चालक दल की महिला सदस्‍यों को सफलता की शुभकामनाएं देती हूं।

नौसेना अध्‍यक्ष एडमिरल सुनील लांबा ने भारतीय नौसेना की समुद्री यात्रा अभियानों की शानदार परंपरा पर संतोष व्‍यक्‍त करते हुए कहा कि 1988 में ‘समुद्र अभियान के साथ’ इसका शुभारंभ हुआ था। इस ऐतिहासिक समुद्र यात्रा की शुरूआत पहली बार अकेले कैप्‍टन दिलीप डोंडे (सेवानिवृत्‍त) ने की थी। इसके साथ कमांडर अभिलाष डोमी ने संसार की जलयात्रा में नौराष्‍ट्रों को जलमार्ग के जरिए बिना रूके साहस के साथ पूरा किया था। उन्‍होंने कहा कि सभी महिला क्रू का यह अभियान पहले के प्रयासों विस्‍तारित रूप है। यह महिला सशक्‍तिकरण-‘‘नारी शक्‍ति’’ दिशा में किए जा रहे सरकार के प्रयासों का प्रतिबिंब है।

आईएनएसवी तरिणी 55 फुट का जलयान है इसे स्‍वदेशी तकनीक से बनाया गया है। इसे इसी वर्ष के आरंभ में भारतीय नौ सेना में शामिल किया गया है। विश्‍व के फॉरम पर यह ‘मेक-इन-इंडिया’ पहल को प्रदर्शित करता है। आईएनएसवी तरिणी के दल में कप्‍तान लेफ्टिनेंट कमांडर वर्तिका जोशी एवं क्रू सदस्‍यों में लेफ्टिनेंट कमांडर प्रतिभा जामवाल, पी. स्‍वाति, लेफ्टिनेंट एस. विजयादेवी, लेफ्टिनेंट बी. ऐश्‍वर्या एवं लेफ्टिनेंट पायल गुप्‍ता शामिल हैं।