112: अखिल भारतीय आपातकालीन सेवाओं हेतु एक ही नंबर

दिनांक: February 20, 2019

GSM US EU SOS women and children

केंद्र सरकार ने सभी आपातकालीन सेवाओं हेतु एकल इमर्जेंसी हेल्पलाइन नंबर 112 प्रारम्भ किया है। अमेरिका के 911 और यूरोपीय संघ के 112 की तर्ज पर 112 को इमर्जेंसी रिस्पॉन्स सपॉर्ट सिस्टम के तहत लाया गया है। 16 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में यह सिंगल इमर्जेंसी नंबर प्रारम्भ हुआ है।

अब कोई भी आपातकालीन सेवाओं के लिए 112 डायल कर सकता है या फिर अपने स्मार्टफोन के पावर बटन को 3 बार प्रेस कर सकता है. इसके अलावा नॉर्मल मोबाइल में 5 या फिर 9 नंबर को लॉन्ग प्रेस करें, इससे ये इमरजेंसी नंबर एक्टिवेट हो जाएगा।

x
112 मोबाइल ऍप:-

'112' नाम से गूगल प्लेस्टोर (Google Play Store) और एप्पल स्टोर (Apple Store) पर फ्री में ऐप भी मौजूद है। इसे स्मार्टफोन से डाउनलोड कर सेवा का लाभ उठाया जा सकता है. इस ऐप में महिलाओं और बच्चों को फटाफट मदद पहुंचाने के लिए "SHOUT" नाम से फीचर मौजूद होगा, जिससे उस क्षेत्र के आस-पास वाले रजिस्टर्ड स्वयंसेवकों को मदद के लिए तुंरत भेजा जाएगा।

इस सिंगल इमरजेंसी नंबर (Emergency Number) की सेवा उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, पंजाब, राजस्थान, मध्य प्रदेश, तमिलनाडु, केरल, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना और केंद्र शासित प्रदेशों में मिलेंगी। फिलहाल ये इमरजेंसी नंबर हिमाचल और नागालैंड में चालू है।