जस्टिस दलवीर भंडारी को दूसरी बार अतंराष्ट्रीय न्याय अदालत ICJ की सदस्यता मिली

दिनांक: November 21, 2017

ICJ India Dalveer Bhandari UK

भारत के जस्टिस दलवीर भंडारी ने दूसरी बार अतंराष्ट्रीय अदालत - इंटरनेशनल कोर्ट   ऑफ जस्टिस में बड़ी जीत हासिल कर ली है. इसके साथ ही  वो इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस  के जज बन गए हैं. जस्टिस दलवीर भंडारी का मुकाबला उम्मीदवार क्रिस्टोफर ग्रीनवुड से था,जो की  ब्रिटेन के निवासी हैं |

 जनरल एसेंबली में दलवीर भंडारी को 183 मत जबकि सिक्योरिटी काउंसिल में जस्टिस भंडारी को 15 मत मिले हैं. 20 नवंबर की रात (भारतीय समयानुसार ) को अंतर्राष्ट्रीय न्यायालय में आईसीजे की आखिरी सीट के लिए मतदान  किया गया. वर्ष 1945 में स्थापित आईसीजे में ऐसा पहली बार हुआ  है जब इसमें कोई ब्रिटिश न्यायाधीश नहीं होगा.

k

 दलवीर भंडारी की जीत का भारत पर प्रभाव

भंडारी की जीत भारत के लिहाज से बेहतरीन है, क्योंकि पाकिस्तान में बंद कुलभूषण जाधव का मामला भी अंतर्राष्ट्रीय अदालत में है.

माना जाता है कि ब्रिटेन को डर था कि कहीं भारत ने दो तिहाई मत हासिल कर लिए तो सुरक्षा परिषद के लिए भारत के प्रत्याशी को आईसीजे में निर्वाचित होने से रोकना बहुत मुश्किल होगा. 

भारत की लोकतांत्रिक तरीके से हुई इस जीत ने वीटो की शक्ति रखने वाले पांच स्थाई सदस्यों ब्रिटेन, चीन, फ्रांस, रूस, और अमेरिका पर भारत का दबदबा कायम कर दिया है.