जियो पैमेण्ट्स बैंक लिमिटेड (Jio Payments Bank Ltd.) की सेवाएं प्रारम्भ :जानिए क्या है भुगतान बैंक

दिनांक: April 07, 2018

payment banks jio ril sbi rbi

जियो पैमेण्ट्स बैंक लिमिटेड (Jio Payments Bank Ltd.), रिलायंस इण्डस्ट्रीज़ लिमिटेड (RIL) और भारतीय स्टेट बैंक (SBI) के बीच 70:30 के अनुपात वाला साझा उपक्रम (joint-venture) है, ने अपना परिचालन 3 अप्रैल 2018 से शुरू कर दिया। रिलायंस को अपने पैमेण्ट्स बैंक के लिए भारतीय रिज़र्व बैंक (आरबीआई-RBI) की स्वीकृति अगस्त 2015 में 10 अन्य आवेदकों के साथ मिली थी।

- टेलीकॉम क्षेत्र में जियो (Jio) की प्रतिद्वन्दी फर्म भारती एयरटेल (Bharti Airtel) ने नवम्बर 2016 में देश में सबसे पहले अपना एयरटेल पेमेण्ट्स बैंक (Airtel Payments Bank) खोला था। इसके बाद पेटीएम (paytm), आदित्य बिड़ला समूह (Aditya Birla Group) और आईसीआईसीआई बैंक (ICICI Bank) के नेतृत्व वाले फिनो (FINO) ने अपने पैमेण्ट्स बैंक शुरू कर दिए हैं।

- उल्लेखनीय है कि वित्तीय समावेशन (financial inclusion) बढ़ाने तथा देश के कोने-कोने में सस्ती बैंकिंग सेवाएं पहुँचाने के उद्देश्य से भारतीय रिजर्व बैंक ने भुगतान बैंकों के संचालन को स्वीकृति प्रदान करने के साथ बैंकिंग की नई परंपरा की शुरुआत की है. भारतीय रिजर्व बैंक की नजर में भुगतान बैंक का उद्देश्य वित्तीय समावेशन को बढ़ावा देना है जिस के तहत लघु बचत खाते खोलना, प्रवासी श्रमिक वर्ग, निम्न आय अर्जित करने वाले परिवारों, लघु कारोबारों, असंगठित क्षेत्र के अन्य संस्थानों व अन्य उपयोगकर्ताओं को भुगतान, विपे्रषण सेवाएं प्रदान करना आदि है क्योंकि आज भी अधिकांश भारतीय नागरिक गांवों में निवास करते हैं.

क्या है भुगतान बैंक

d

भुगतान बैंक एक विशेष प्रकार का बैंक है जिसे सीमित दायरे में बैंकिंग कार्य करने की अनुमति दी जाती है. ये बैंक जमाओं पर आधारित हैं जो ग्राहकों का पैसा जमा तो कर सकते हैं परंतु ग्राहकों को ऋण नहीं दे सकते. ग्राहकों के धन को सुरक्षित रखना और जब भी जरूरत पड़े उन का भुगतान करना तथा ग्रामीण जनता में वित्तीय प्रवेश को बढ़ावा देना जिस के तहत लघु बचत खाते खोलना, प्रवासी श्रमिक वर्ग, निम्न आय अर्जित करने वाले परिवारों, लघु कारोबारों, असंगठित क्षेत्र की अन्य संस्थानों व अन्य उपयोगकर्ताओं को भुगतान एवं विप्रेषण सेवाएं प्रदान करना ही इन बैंकों का मुख्य उद्देश्य है. प्रारंभ में ये बैंक प्रत्येक ग्राहक से अधिकतम 1 लाख रुपए की जमाराशि स्वीकार कर सकते हैं तथा इन जमाराशियों को नकदी या सरकारी प्रतिभूतियों में ही निवेश कर सकते हैं.

भुगतान बैंक एटीएम/डैबिट कार्ड तो जारी कर सकता है परंतु क्रैडिट कार्ड जारी नहीं कर सकता. ये अपने ग्राहकों को विभिन्न प्रौद्योगिक प्रणालियों के माध्यम से भुगतान और धन भेजने की सेवाएं प्रदान कर सकते हैं व म्यूचुअल फंड इकाइयों और बीमा उत्पाद जैसे जोखिम रहित सरल वित्तीय उत्पादों का वितरण कर सकते हैं. इन्हें बैंकिंग नियमावली 1987 की धारा 22 के अंतर्गत लाइसैंस जारी किए गए हैं. ये बैंक अपनी बैंकिंग सेवा, गांवों, कसबों और छोटे कामगारों तक बैंकिंग सुविधाओं को पहुंचाने का प्रयास करते हैं जिस से छोटे कारोबारी भी इन के माध्यम से आसानी से अपना पैसा जमा व अन्य लेनदेन कर सकें. इन बैंकों द्वारा इंटरनैट बैंकिंग की सुविधा भी प्रदान की जा सकेगी. भुगतान बैंक प्रीपेमैंट कार्ड के अलावा गिफ्ट कार्ड और मैट्रो कार्ड के साथ प्रौद्योगिकी आधारित लगभग सभी सेवाएं दे सकते हैं.